श्री क्षत्रिय वीर ज्योति का पंचम मंथन शिविर (हमीरगढ़ ) संपन्न



श्री क्षत्रिय वीर ज्योति के पंचम मंथन शिविर का आयोजन दिनांक 17/11/2012 से 18/11/2012 तक प्रातः स्मरणीय स्वतंत्रता के दीवाने महाराणा प्रताप की मेवाड़ धरा के हमीरगढ़ (भीलवाड़ा) में किया गया था ! मंथन शिविर हमीरगढ़ के पहाड़ी में स्थित रमणीय स्थल इको पार्क में "मंशा महादेव" मन्दिर के प्रांगन में दिनांक 17/11/2012 को समय क़रीब 03.00 बजे शाम प्रारंभ हुआ !श्री क्षत्रिय वीर ज्योति के अध्यक्ष वासुदेव भगवन श्री कृष्ण की मंगलिक मंत्रोच्चारन के साथ उपासना के उपरांत कार्यक्रम की शुरुआत करते हुए सर्व‌-‌-प्रथम श्री क्षत्रिय वीर ज्योति के संस्थापक सदस्य एवं आधारस्तंभ ठाकुर साहब जयपालसिंह गिरासे,शिरपुर (शिशोदिया) ने श्री क्षत्रिय वीर ज्योति की प्रस्तावना उपस्थित क्षत्रिय एवं क्षत्रानियो के समक्ष रखी ! इसके बाद प्रमुख मार्गदर्शक कुँवर राजेंद्र सिंह नरुका (बसेट) ने क्षत्रिय वीर ज्योति के लक्ष्य एवं उसे हासिल करने के लिए आगामी 46 वर्षों का कार्य-क्रम क्रमवार विस्तार से बताया ! मिशन के लिए धन एवं साधनों के स्रोत्रो पर भी विस्तार से बताया गया ! गुजरात से पधारे श्री मुक्तेश सिंह जी मन्हार ने पिछले 4 वर्षों तक के संस्थान के द्वारा लक्ष्य की दिशा में तय की गयी दूरी एवं क्रियाकलापों के बारे में बताया !गुजरात से ही पधारे श्री जयदीप सिंहजी झाला ने श्री क्षत्रिय वीर ज्योति के मिशन में अपने द्वारा किए गए कार्यों के बारे में बताया ! संस्थान के संस्थापन में अग्रणी भूमिका निभाने एवं मध्य-भारत में क्षत्रिय धर्म जागरण रत श्री डॉक्टर साहब प्रल्हादसिंहजी सिकरवार(गुना) ने आज के परिवेश में क्षत्रिय वीर ज्योति के मिशन की अवश्यकता के बारे में बताया ! इसके बाद मंथन शिविर में उपस्थित सभी बंधुओं से अपने-अपने विचार व्यक्त करने को कहा गया !सभी उपस्थित क्षत्रिय बंधुओं ने अपना पूर्ण सहयोग श्री क्षत्रिय वीर ज्योति को प्रदान कराने का वायदा किया ! अपनी शंकाओं को प्रकट किया जिनका समाधान संस्थान की ओर से किया गया ! इस मंथन शिविर में आदरणीय राजाधिराज हेमेन्द्रसिंहजी बनेरा (पूर्व-सांसद ) सहित राजस्थान ,एम.पी.,गुजरात, महांराष्ट्र ,दिल्ली,उ.प्र. से कार्यकर्ताओ ने भाग लिया !शिविर के मेजबान रावतसाहब श्रीमंत युगप्रदीपसिंहजी हमीरगढ़ थे ! मंथन शिविर में राजाधिराज हेमेन्द्रसिंहजी बनेरा ने इस मिशन को क्षत्रिय धर्म पुनर्स्थापना के लिए अत्यन्त आवश्यक बताया और अपना पूर्ण सहयोग देने का आश्वासन दिया ,साथ ही वर्तमान सभी प्रकार के राजपुत राजनेताओ से सावधान रहने की सलाह दी ! उद्योजक श्री कुलदीपसिंहजी श्यामपूरा ने भी अपना सहयोग देने का वायदा किया ! मेजबान रावत साहब हमीरगढ़ (श्री युगप्रदीपसिंह जी ) ने सभी का यहा पधारने का आभार व्यक्त किया एवं अपने संगठन जय राजपूताना युवा सेवा संसथान की ओर से इस मिशन के लक्ष्य हेतु पूर्ण सहयोग का आश्वासन दिया ! क्षत्रिय धर्म की पुनर्स्थापना में क्षत्रनियो की भूमिका क्या है, और किस प्रकार आज क्षत्रनियो को इस दूषित होते वातावरण से बचाया जाए ,इस पर कुंवरानी साहिबा निशाकँवरजी ने सभी को विस्तार से समझाया ! इसके बाद सायंकाल श्री चामुंडा भवानी माताजी के मन्दिर में दर्शन किए गए ! रात्रि हमीरगढ़ राजमहल में 08.00 बजे से 12.00 बजे तक पुनः शंका समाधान का दौर हुआ ! इस सत्र में इतिहास, धर्म, रामायण---महाभारत---गीता आदि गहन विषयोंपर भी महत्वपूर्ण चर्चा की गयी। इसके बाद दिनांक 18/11/2012 प्रातः 09.30 बजे सभी श्री क्षत्रिय युवक संघ के बालिका शिविर में देवली गाव के पास ....बनास नदी के किनारे थला माता के मंदिर बिलिया ,खरदा गए एवं ठाकुर जयपालसिंहजी गिरासे (शिशोदिया),रावतसाहब श्रीमंत युगप्रदीपसिंहजी हमीरगढ़ ,डॉक्टर साहब प्रह्लाद सिंहजी गुना एवं कुँवर राजेंद्र सिंह जी नरुका ने विस्तार से बालिकाओं एवं वहा उपस्थित सभी क्षत्रिय एवं क्षत्रनियो को क्षत्रिय धर्म एवं श्री क्षत्रिय वीर ज्योति मिशन के बारे में समझाया ! इसके बाद सायंकाल 03.00 बजे शिविर समापन हुआ एवं सभी ने भाव भीनी विदाई ली ! मेजबान रावतसाहब युग्प्रदिपसिंह हमीरगढ़ ; श्रीमान हर्षप्रदिपसिंहजी हमीरगढ़  का मृदुल एवं मिलनसार व्यवहार प्रशंसनीय रहा !इस मंथन शिविर में भंवर रविराज सिंह मेडी ;युवा नवोदित व्यवसायी कुँवर हेमेन्द्र सिंह जी तंवर (दीपावास) भी उपस्थित रहे ! भँवर् कुश (11 वर्षीय) एवं भँवर बाईसा उत्तम कँवर(13 वर्षीय) ने भी मंथन शिविर में पूरा भाग लिया ! इस मंथन शिविर में जो मुख्य निर्णय हुए वे निम्न प्रकार है :‌-1)अगला मंथन शिविर मध्य प्रदेश में गुना में मार्च 2012 में आयोजित होगा !इसके आयोजक डॉक्टर साहब प्रह्लाद सिंह जी सिकरवार होंगे !2) सन् 2014 तक इस क्षत्रिय वीर ज्योति मिशन में कुल 10000 सक्रिय सदस्य बनाने है !3) अगले मंथन शिविर में तय किया जायेगा कि सदस्यों से सदस्यता शुल्क कब से लेना शुरू किया जाएँ !4)श्री क्षत्रिय वीर ज्योति के मिशन की जानकारी के लिए "क्षत्रिय संसद" ब्लॉग को नियमित किया जाएँ! और ज्ञान दर्पण ,राजपूत वर्ल्ड , पर भी लगातार इसकी जानकारी उपलब्ध करवायी जायेगी !5) पति के साथ चिता में बैठकर स्वर्ग गमन करने वाली क्षत्रनियो से ज्यादा वे क्षत्रनियो महान मानी जाएँ जो विधवा रहकर अपने पति के परिवार का सहारा बनती है ! और उनके पति के लक्ष्य में अपना पूरा जीवन समर्पित करती है! अतः विधवा क्षत्रनियो को तपस्विनी और देवी का रूप मानकर उनका भरपुर सम्मान किया जाये ! 6)क्षत्रिय युवक संघ के दोनों घटकों से दंपती शिविर के जरिये क्षत्रिय वीर ज्योति के स्थापित होने वाले गुरुकुलों के लिए क्षत्रिय एवं क्षत्रनियो के संस्कारित परिवारों को चिह्नित कराने का निवेदन किया जायेगा ! "जय क्षात्र-धर्म" !!!



प्रचार प्रमुख



श्री क्षत्रिय वीर ज्योति

Comments :

1

Post a Comment